Friendship Shayari Hindi

Dosti Shayari in Hindi : Friendship is just not a relationship of mutual affection between people, it is a real meaning of feelings of care, respect, admiration, concern, love or like. Express your sentiments to your true friend with our finest collection of (फ्रेंडशिप शायरी)(दोस्ती शायरी), फ्रेंडशिप SMS and फ्रेंडशिप Status of 2022 in हिंदी and English script.Friendship Shayari Hindi

Armaano Ki Manzil Dosti

ज़िन्दगी हर पल कुछ खास नहीं होती,
फूलों की खुशबू हमेशा पास नहीं होती,
मिलना हमारी तक़दीर में था वरना,
इतनी प्यारी दोस्ती इत्तेफाक नहीं होती।

Zindagi Har Pal Kuchh Khaas Nahi Hoti,
Phoolo Ki Khushboo Hamesha Paas Nahi Hoti,
Milna Humari Takdeer Mein Tha Varna,
Itni Pyari Dosti ittefaaq Nahi Hoti.

तुम दोस्त बनके ऐसे आए ज़िन्दगी में,
कि हम ये जमाना ही भूल गये,
तुम्हें याद आए न आए हमारी कभी,
पर हम तो तुम्हें भुलाना ही भूल गये।

Tum Dost Ban Ke Aise Aaye Zindagi Mein,
Ki Hum Yeh Zamana Hi Bhool Gaye,
Tumhein Yaad Aaye Na Aaye Humari Kabhi,
Par Hum To Tumhein Bhulaana Hi Bhool Gaye.

Friendship Shayari Hindi 2022

ज़िन्दगी के तूफानों का साहिल है दोस्ती,
दिल के अरमानों की मंज़िल है दोस्ती,
ज़िन्दगी भी बन जाएगी अपनी तो जन्नत,
अगर मौत आने तक साथ दे दोस्ती।

Zindagi Ke Toofanon Ka Saahil Hai Dosti,
Dil Ke Armaanon Ki Manzil Hai Dosti,
Zindagi Bhi Ban Jayegi Apni To Jannat,
Agar Maut Aane Tak Saath De Dosti.

वो दिल क्या जो मिलने की दुआ न करे,
तुम्हें भूल के जियूं ये खुदा न करे,
रहे तेरी दोस्ती मेरी ज़िन्दगी बनकर,
ये बात और है कि ज़िन्दगी वफा न करे।

Yaari Dosti Shayari

Wo Dil Kya Jo Milne Ki Dua Na Kare,
Tumhein Bhool Ke Jiyun Yeh Khuda Na Kare,
Rahe Teri Dosti Meri Zindgi Ban Kar,
Ye Baat Aur Hai Ki Zindagi Wafa Na Kare.

दीये तो आँधी में भी जला करते हैं,
गुलाब तो काँटो में भी खिला करते हैं,
खुशनसीब बहुत होती है वो शाम,
जिसमें दोस्त आप जैसे मिला करते हैं।

Deeye To Aandhi Mein Bhi Jala Karte Hain,
Gulaab To Kaanto Mein Bhi Khila Karte Hain,
KhushNaseeb Bahut Hoti Hai Wo Shaam,
Jisme Dost Aap Jaise Mila Karte Hain.

Two Line Shayari Hindi

दाग दुनिया ने दिए ज़ख्म ज़माने से मिले,
हमको तोहफे ये तुम्हें दोस्त बनाने से मिले।

Daag Duniya Ne Diye Zakhm Zamane Se Mile,
HumKo Tohfe Ye Tumhein Dost Banaane Se Mile.

दोस्त होकर भी महीनों नहीं मिलता मुझसे,
उस से कहना कि कभी ज़ख्म लगाने आये।

Dost Hokar Bhi Maheeno Nahi Milta Mujhse,
Uss Se Kehna Ki Kabhi Zakhm Lagaane Aaye.

आप जिसके वास्ते मुझसे किनारा कर गए
आपसे बच कर वही मुझको इशारा कर गए।

Aap Jiske Waste Mujhse Kinara Kar Gaye,
Aapse Bach Kar Wahi Mujhko Ishara Kar Gaye.

तूफानों ​की दुश्मनी से न बचते तो खैर थी​,
​साहिल से दोस्तों के भरम ने डुबो दिया​।

Toofano Ki Dushmani Se Na Bachte To Khair Thi,
Saahil Se Doston Ke Bharam Ne Dubo Diya.

दोस्ती किससे न थी किससे मुझे प्यार न था,
जब बुरे वक़्त पे देखा तो कोई यार न था।
Dosti Kis Se Na Thi Kis Se Mujhe Pyar Na Tha,
Jab Bure Waqt Pe Dekha To Koi Yaar Na Tha.

Leave a Comment