अकल को रोग मार देते है -हिंदी शायरी

Painfull Shayari Dard-E-Dil -Hindi Shayari

Akal Ko Rog Maar Dete Hai,
Ishq Ko Sog Maar Dete Hai,
Aadmi Khud Bakhud Nahi Marta,
Doosre Log Maar Dete Hai.
अकल को रोग मार देते है,
इश्क़ को सोग मार देते है ,
आदमी खुद बखुद नहीं मरता,
दुसरे लोग मार देते है!
https://fillsayari.blogspot.com/

Hum Kya Jaane Dard Ki Keemat

Hume Toh Sare Dard Muft Me 
                 Mile💔
हम क्या जाने दर्द की कीमत, 
हमे तोह सारे दर्द मुफ्त में,
                मिले!💔
Muje Aawargi Ne Samjhaya,
Ghar Zaroori Hai Zindagi Ke Liye😔
मुझे आवारगी ने समझाया ,
घर ज़रूरी है ज़िन्दगी के लिए😞!
Ehasaas E Mohabbat Ke Liye Bas Itna Kaafi Hai,
Tere Bagair Bhi Tere Hi Rehte Hai.😥 
एहसास ये मोहब्बत के लिए इतना काफी है,
तेरे बगैर भी तेरे ही रहते है!😥
“Main Sudhra Tha Kuch Waqt Ke  Liye,
           Tere Aane Ke Baad. 
“Ab Duniya Bhi Dekhenge Rang Mera,
           Tere jaane Ke Baad,”
“मैं सुधरा था कुछ वक़्त के लिए,
            तेरे आने के बाद”
अब दुनिया देखेंगे  रंग मेरा,
             तेरे जाने के बाद!”

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Download Wallpaper
Please wait while your url is generating... 3

Please click the download button to start downloading

Download full resolution image